यह घोषणापत्र अर्पित है उन भारतीय नागरिकों व सैनिकों को- जो एक मुर्दा क़ौम में रहते हुए भी- खुद को जिन्दा समझते हैं!

बुधवार, 5 अक्तूबर 2016

अध्याय- 45: यौन अपराध


45.1        यौन अपराध- खासकर बलात्कार- के मामले बन्द अदालतों में चलाये जायेंगे।
45.2        इन अदालतों में ज्यूरीका होना अनिवार्य होगा, जिसमें सामाजिक कार्यकर्ता, मनोविज्ञानी, पुलिस-अधिकारी, वकील, डॉक्टर तथा पत्रकार के रूप में 6 महिला और 6 पुरूष सदस्य होंगे।
45.3        अदालत में पीड़िता स्त्री द्वारा एक बार अपराध में अपनी असहमतिया अपने समर्पण को किसी किस्म की मजबूरीबताये जाने के बाद इसे गलत साबित करने के लिए बहस नहीं की जायेगी।
45.4        वास्तव में, पुरूष द्वारा अपनी पत्नी तथा नगरवधू“ (क्रमांक- 33.3) के अलावे किसी और के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने या ऐसी कोशिश करने को ही इस देश में दण्डनीय अपराध माना जायेगा- नाबालिग के साथ ऐसा करने पर यह काल कोठरीमें डाल दिये जाने लायक अपराध होगा। (काल कोठरी’, यानि जहाँ सूर्य के दर्शन नही होंगे।)
45.5        स्त्री द्वारा अपनी सहमती या समर्पण की बात स्वीकार करने पर यह बलात्कारनहीं, बल्कि अनैतिक सम्बन्धका मामला बन जाएगा; और स्त्री-पुरूष दोनों को चेतावनी, जुर्माने से लेकर कारावास तक की सजा दी जा सकेगी। (जाहिर है कि किसी तीसरे पक्षद्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद ही अनैतिक सम्बन्ध के मामले अदालतों तक आ पायेंगे। यही नियम समलैंगिक सम्बन्धों के मामलों पर भी लागू होगा।)
45.6        बलात्कार के प्रत्येक मामले में बलात्कारी को जेल की सजा तो मिलेगी ही; इसके अलावे, ”स्त्री-हारमोनका इंजेक्शन लगाकर उसका लिंग-परिवर्तन किया जाय या नहीं- इसके लिए बाकायदे जनमत-सर्वेक्षण करवाया जायेगा और उसी अनुरुप कार्रवाई की जायेगी। (जिनका लिंग-परिवर्तन होगा, उन्हें जेल की सजा पूरी होने के बाद एक नयी पहचानके साथ रिहा किया जायेगा- अब वह इस नयी पहचान के साथ समाज में जीना चाहे या नहीं, यह उसकी मर्जी होगी।)

                ***

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें